अंदर की बात

यहां पर आपको जनरल नॉलेज , मोबाइल एप्लीकेशन, इंटरनेट नॉलेज, त्यौहार, हिन्दू रीती रिवाज के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी. इसलिए हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करना ना भूले

Friday, 11 October 2019

करवाचौथ का व्रत क्यो मनाया जाता है हिंदी में पूरी जानकारी


हेलो दोस्तो, आज मैं एक बार फिर से आप लोगो के लिए अपनी एक नई पोस्ट ओर नई जानकारी लेकर हाजिर हो गया हूँ। आज की मेरी ये पोस्ट शादीशुदा लड़को और लड़कियों के लिए है। जिनकी अभी अभी नई शादी हुई है उनके लिए तो मेरी ये पोस्ट बहुत ही काम आने वाली है। क्योकि आज की इस पोस्ट में मैं आपको करवाचौथ के व्रत के बारे में बताने जा रहा हूँ। तो चलिए ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए सीधा मुद्दे पर आते है और करवाचौथ के व्रत के बारे में जानते है।
करवाचौथ का व्रत

हर शादीशुदा लड़की यही चाहती है कि उसका पति स्वस्थ रहे और उसकी उम्र लंबी हो। अपनी इसी कामना को लेकर हर शादीशुदा लड़की करवाचौथ का व्रत रखती है। ऐसा कहा जाता है कि करवाचौथ का व्रत रखने से पति की उम्र लंबी होती है और वो स्वस्थ भी रहता है। लेकिन इस व्रत की शुरुआत कहाँ से हुई है और इसका इतिहास क्या है। आज हम इसी के बारे में बात करने वाले है।



मैंने अपनी पिछली पोस्ट में बताया था कि दीवाली का त्योहार क्यो मनाया जाता है और ये भी बताया था कि होली का त्योहार क्यो मनाया जाता है। अगर आपने मेरी वो पोस्ट अभी तक नही पढ़ी है तो ऊपर पिले रंग के लिंक पर क्लिक करके आप मेरी वो पोस्ट पढ़ सकते है। फिलहाल आज हम इस पोस्ट में करवाचौथ के बारे में जान रहे है।

वैसे  तो इस पुराणों में इस व्रत के बारे मे बहुत सारी कथाये प्रचलित है लेकिन इस व्रत की शुरुआत जब सत्यवान की आत्मा को यमराज लेकर जा रहे थे और सत्यवान की पत्नी सावित्री ने यमराज से अपने पति के प्राण वापस ले लिए थे। सत्यवान की मृत्यु होने पर यमराज सत्यवान की आत्मा को अपने साथ लेकर जा रहे थे। तब सावित्री ने यमराज से अपने पति के प्राण वापस देने की भीख मांगी। लेकिन यमराज ने सावित्री के एक न सुनी।



आपको बता दूं कि सावित्री एक पतिव्रता नारी थी। अपने पति के प्राण वापस न देने पर सावित्री ने अन्न और जल त्याग दिया और अपने पति के शरीर के पास बैठ कर विलाप करने लगी। जब काफी दिनों बाद भी सावित्री ने अन्न और जल ग्रहण नही किया तो यमराज ने सावित्री को अपने पति के प्राण के अलावा कोई भी एक वरदान मांगने को बोला। तब सावित्री ने यमराज से कई संतानो की माँ बनने का वरदान मांग लिया और यमराज ने  सावित्री को ये वरदान दे दिया।



जैसा कि मैंने आपको पहले ही बताया था कि सावित्री एक पतिव्रता नारी थी। अपने पति के अलावा किसी ओर मर्द का ख्याल तक लाना उसके लिए पाप था। अब यमराज ने उसे संतान प्राप्ति का वरदान दे दिया था लेकिन उसके पति के प्राण तो खुद यमराज के पास थे। तब यमराज ने विवश होकर सत्यवान को उसके प्राण लौटा दिए। तब से हम सभी करवाचौथ का व्रत रखते है।

ऐसा कहा जाता है की जो भी शादीशुदा स्त्री अन्न जल त्याग कर पूरी निष्ठा से करवाचौथ का व्रत रखती है यमराज उसके पति की उम्र लंबी कर देते है। इस दिन पत्नी अन्न और जल का त्याग कर अपने पति की लंबी उम्र के लिए करवाचौथ का व्रत रखती है। इस दिन भगवान शिव, पार्वती, गणेश और कार्तिक भगवान की पूजा की जाती है।

तो दोस्तो, आपको मेरी आज की ये पोस्ट कैसी लगी मुझे Comment Box में Comment करके जरूर बताएं ओर अगर आपकी इस पोस्ट से Releted कोई भी Problem है तो आप मुझे Comment Box में Comment कर सकते है। मैं आपकी Comment का जल्दी ही Reply करूँगा। धन्यवाद।

Tag Lines :-
karwachoth ka vart kyo rakha jata hai, savitri kon thi, karwachoth ka vart kiske liye rakha jata hai, karwachoth kya hai, karwachoth kyo manaya jata hai, 

No comments:

Realme C2 Phone के बारे में हिंदी में पूरी जानकारी

हेलो दोस्तो, मैं एक बार फिर से आप लोगो के लिए अपनी एक नई पोस्ट ओर नई जानकारी लेकर हाजिर हो गया हूँ। आज मैं आपको अपनी इस पोस्ट...